July 22, 2024

अवैध खनन रोकने संबंधी एसओपी के तहत की जाए कार्रवाई : उपायुक्त

1 min read

शिवालिक पत्रिका, नूंह जिला में अवैध खनन की रोकथाम व अवैध खनन के मामलों में सख्ती से निपटने के लिए सभी हितधारकों के मार्गदर्शन के लिए खान और भूविज्ञान विभाग द्वारा मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) तैयार की गई है। इस एसओपी के तहत संबंधित विभाग अवैध खनन के संबंध में आवश्यक कार्यवाही अमल में लाएं। उपायुक्त अजय कुमार अपने कार्यालय में पुलिस, डीटीओ, वन व खनन विभाग के अधिकारियों को अवैध खनन रोकने के संबंध में तैयार एसओपी के अनुसार कार्यवाही करने के निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि इस एसओपी को राज्य नियम, 2012 के प्रावधानों के अनुरूप मुख्यत: चार श्रेणियों में बांटा गया है, जिनमें अवैध खनन गतिविधियों के लिए अतिसंवेदनशील क्षेत्रों की पहचान और संरक्षण, शिकायत/सूचना पर अवैध खनन की जांच, वैध परमिट के बिना खनन सामग्री ले जाने वाले वाहन, खनन करने वाले खनिज रियायत धारक स्वीकृत खनन योजना/पर्यावरण मंजूरी (ईसी) की शर्तों का उल्लंघन कर रहे हैं, शामिल हैं। उन्होंने कहा कि अवैध खनन एवं पर्यावरण से संबंधित जारी हिदायतों की पालना सुनिश्चित की जाए। अवैध खनन वाले इलाकों कीे समीक्षा करने के लिए व्यक्तिगत रूप से स्थल का दौरा किया जाए व अवैध खनन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाए। अवैध खनन की शिकायत मिलने पर माइनिंग व पुलिस विभाग के अधिकारियों की कमेटी तुरंत अवैध खनन स्थल का निरीक्षण करेगी, यदि अवैध खनन का क्षेत्र वन भूमि में आता है, तो इस स्थिति में वन विभाग और राजस्व विभाग का प्रतिनिधि भी कमेटी में शामिल होगा।

उन्होंने खनन अधिकारी को निर्देश दिए राजस्थान से आने वाले पत्थरों की लगातार चैकिंग की जाए, अगर वाहन अवैध रूप से पत्थर लता है तू उसके खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जाए वाहन को और पुलिस की निगरानी में रखा जाए। रिपोर्ट के आधार पर अवैध माईनिंग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाए।

जिला खनन अधिकारी अनील कुमार ने बताया कि उनकी टीम द्वारा 18 गाडिय़ों का चालन किया है तथा 4 एफआईआर दर्ज संबंधित नजदीकि थाने में दर्ज करा दी गई है। उन्होंने कहा कि जो वाहन अवैध खनन में लगे हुए है उन वाहनों को भी जब्त कर जुर्माना लगाया जाये। अन्य राज्यों से लगते क्षेत्रों में अवैध खनन में लगे वाहनों की आवाजाही पर अंकुश लगाने के लिए नाके लगाए गए। इसके अलावा, वाहनों के परमिट की भी जांच की जायेे। इस अवसर पर पुलिस अधिक्षक वरुण सिंगला, एडीसी रेनु सोगन, एसडीएम फिरोजपुर-झिरका चिनार, सीईओ प्रदीप अहलावत, एसडीएम नूंह अश्वनी कुमार, नगराधीश एवं एसडीएम तावडू़ सिद्घार्थ दहिया, सचिव आरटीए जितेश मल्होत्रा सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *