April 21, 2024

आखिर कब थमेगा बेजुबानों गौधन और नंदी बैलों पर मानवीय क्रूरता का अत्याचार

गगरेट/सुखविंदर/25 अप्रैल/ गगरेट विधानसभा क्षेत्र में आए दिन हो रहे मानवीय क्रूरता के शिकार गौमाता और नंदी महाराज पर कब रुकेगा इस तरह का अत्याचार। कम से कम इन बेजुबान जानवरों के प्रति ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए। जब लोग इंसानों के प्रति जघन्य अपराध क्रियाओं से स्वयं को नहीं रोक सकते तो वे पशुओं के प्रति क्या रूकेंगे। किसी जानवर के साथ कोई ऐसी हरकत कैसे कर सकता है। जानवरों के प्रति दुर्व्यवहार पहले शुरू होता है इंसानों के प्रति बाद में बरता जाता है। जो पहले जीव जंतुओं को बचपन में सताते हैं उन्हीं में से अनेक आगे जाकर तरह तरह के मनोरोगी अपराधी बनते हैं। पशु और मनुष्य के बीच अनेक भिन्नताएं हैं। इन भिन्नताओं में एक भिन्नता महत्वपूर्ण है कि मनुष्य को अपने पुण्य कर्मों और श्रम से विद्या, धन व शक्ति जिस रूप में प्राप्त होती है वैसी प्राप्ति पशुओं की कभी नहीं होती। पशुओं के संरक्षण के लिए बनाए गए कानूनों को प्रभावी ढंग से लागू करने की तत्काल आवश्यकता है, जिसकी ओर पहल करनी चाहिए। पशुओं की सुरक्षा के लिए सख्त कानून बनाने की जरूरत है।आज के युग में मानव इतना निर्दयी और कठोर हो गया है कि वह किसी जीव को कष्ट देने से पहले एक बार भी नहीं डरता। अभी पिछले कल डंगोह के लोह लंगर के पास किसी व्यक्ति ने गाय को खड्ड के पास छोड़ दिया। गाय जीवन और मृत्यु से संघर्ष करती रही। बड़े बड़े गोसंरक्षण का दावा करने वाली संस्थाएं भी इस पर चुप्पी साधे बैठी हैं। उस गाय को टैग लगा था। टैग का मालिक राजीव कुमार पुत्र कश्मीर सिंह निवासी बधमाणा का निकला। ब्लड सागर एंड सोशल वैलफेयर सोसाइटी नंगल जरियाला द्वारा टैग के माध्यम से मालिक की जानकारी प्राप्त की। परन्तु जब उससे संपर्क किया गया तो उसने बताया कि उसने अपनी गाय को अच्छरो बीबी डंगोह खास वार्ड नं 1 को बेच दी थी। परन्तु इस पर अभी तक कोई भी विभागीय कार्रवाई नहीं हुई। अभी भी यह गौ माता जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है।आज फिर एक बार भद्रकाली के फतेहपुर में मानवीय क्रूरता का शिकार एक नंदी बैल ईलाज के लिए तरसता रहा। ब्लड सागर एंड सोशल वैलफेयर सोसाइटी चाहती है इस तरह गौमाता और नंदी महाराज पर अत्याचार करने बालों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई अमल में लानी चाहिए ताकि भविष्य में पशुओं पर ऐसी मानवीय क्रूरता व अत्याचार न हो। ब्लड सागर एंड सोशल वैलफेयर सोसाइटी ने जिलाधिकारी ऊना राघव शर्मा का तहदिल से धन्यवाद किया है कि उन्होंने तत्काल इस गोमाता को नजदीक के पशुशाला में आश्रय दिलवाया। परंतु गौशालाओं में भी सुविधा का अभाव है। अतः उन्होंने जिला उपायुक्त से मांग की है कि इन गौशालाओं की सुविधा को बेहतर बनाया जाए और समय समय पर इन गौशालाओं का ज़िला उपायुक्त स्वयं निरीक्षण करें। ताकि गोधन को बेहतर सुविधाएं मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *