July 14, 2024

‘सी. एम. दी योगशाला’ सेहतमंद, गतिशील और ख़ुशहाल पंजाब बनाने के लिए मील का पत्थर साबित होगी : भगवंत मान

1 min read

राज्य सरकार की पुरज़ोर कोशिशों के साथ पंजाब देश भर में अमन की मिसाल बना

पटियाला,
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने उम्मीद जतायी कि ‘सी. एम. दी योगशाला’ सेहतमंद, गतिशील, ख़ुशहाल और प्रगतिशील पंजाब की सृजना करने के लिए मील का पत्थर साबित होगी। इस प्रोग्राम ‘सी. एम. दी योगशाला’ के लिए पोर्टल जारी करने के बाद में इक्ट्ठ के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की हाज़िरी में मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिक अनुकूल यह अहम प्रोजैक्ट दिल्ली के मुख्यमंत्री के मन की उपज है और इसने लोगों के बीच काफ़ी मकबूलियत हासिल की है। उन्होंने कहा कि इस जन हितैषी पहलकदमी का राष्ट्रीय राजधानी की बड़ी संख्या में जनता लाभ ले रही है। भगवंत मान ने कहा कि सिर्फ़ पंजाब ने इस स्कीम को राज्य में लागू किया है जिससे हर पंजाबी को इसका लाभ मिलना यकीनी बनाया जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुफ़्त में योग प्रशिक्षण लेने के लिए लोग टोल फ्री नंबर 76694- 00500 या https://cmdiyogshala.punjab.gov.in पर लॉगइन कर सकते हैं। उन्होंने मील का पत्थर साबित होने वाले इस कदम को सेहतमंद और ख़ुशहाल पंजाब की सृजना करने के लिए लोक लहर पैदा करने का सबब बताया। उन्होंने उम्मीद जतायी कि भारत की इस गौरवमयी पुरानी रिवायत पर चलते हुये यह योगशालाएं पंजाबियों को शारीरिक और मानसिक तौर पर सेहतमंद बनाने में मददगार साबित होंगी। भगवंत मान ने कहा कि इस मुहिम के अंतर्गत प्रशिक्षित योग इंस्ट्रक्टर खुले पार्कों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर लोगों को मुफ़्त में योग प्रशिक्षण देंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसका प्रारंभिक मंतव्य पंजाब को सेहतमंद, ख़ुशहाल और प्रगतिशील बनाने के लिए योग को लोक लहर बनाना है। उन्होंने कहा कि शरीर एवं दिमाग़ को तंदुरुस्त रखने के लिए योग बहुत ज़रूरी है और हर व्यक्ति को सेहतमंद रहने के लिए योग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाना चाहिए। भगवंत मान ने कहा कि ‘सी. एम. दी योगशाला’ मुहिम योग आसनों के द्वारा अच्छी सेहत एवं साफ़-सफ़ाई यकीनी बनाने के बारे लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए अहम भूमिका निभाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि न सिर्फ़ लोगों की सेहत को अच्छा रखना, बल्कि रोज़मर्रा की ज़िंदगी में कई चुनौतियों का सामना करने वाले लोगों को चिंता मुक्त करना समय की ज़रूरत है। उन्होंने कहा कि बढ़ता मानसिक तनाव हरेक के लिए चिंता का बड़ा विषय है और योग इससे लोगों को बचाने के लिए अहम भूमिका निभा सकता है। भगवंत मान ने कहा कि मानक जीवन के लिए योग के आसनों के द्वारा जीवन शैली में कुछ ज़रूरी तबदीलियाँ लाकर सही मानसिक और शारीरिक संतुलन बैठाना ज़रूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड महामारी ने लोगों को कई सबक सिखाए और लोगों को कुदरत के साथ प्यार करते हुये जीवन जीने का सलीका सिखाया। उन्होंने कहा कि चाहे इस महामारी के गंभीर नतीजे हमारे सामने हैं परन्तु इसने वातावरण प्रदूषण घटाने में मदद की। भगवंत मान ने लोगों को कुदरत का सम्मान करने और कुदरत के नियमों के मुताबिक ज़िंदगी जीने के लिए प्रेरित किया। मुख्यमंत्री ने यह भी ऐलान किया कि विद्यार्थियों को मुकाबले वाली परीक्षाओं के लिए तैयारी करवाने के लिए राज्य सरकार 10 अत्याधुनिक सैंटर खोलेगी। भगवंत मान ने कहा कि यह सैंटर यू. पी. एस. सी. परीक्षाओं के लिए युवाओं को मानक प्रशिक्षण मुहैया करेंगे जिससे वह राज्य और देश के अहम पदों पर पहुंच सकें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का मंतव्य युवाओं को देश के सबसे सम्मानजनक पदों पर पहुंचाना है, न कि गैर-कानूनी गतिविधियों में धकेल कर जेलों में। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार युवाओं की अथाह शक्ति को रचनात्मक दिशा में लाने के लिए खेल को बड़े स्तर पर उत्साहित कर रही है। उन्होंने कहा कि इसलिए ‘ खेडां वतन पंजाब दियां’ जैसे प्रतिष्ठित खेल करवाये गये, जिसमें लाखों खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया। भगवंत मान ने आगे कहा कि पंजाब सरकार राज्य भर के 14 हज़ार खेल और यूथ क्लबों का पुर्नोद्धार कर रही है जिससे युवाओं की भलाई हर सूरत में यकीनी बने। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राज्य सरकार ने पंजाब में मानक सेहत सेवाएं मुहैया करानं के लिए 500 से अधिक आम आदमी क्लीनिक लोगों को समर्पित किये हैं। उन्होंने कहा कि यह क्लीनिक लोगों को विश्व स्तरीय इलाज और डायग्नौस्टिक सेवाएं मुफ़्त में मुहैया कर रहे हैं। भगवंत मान ने कहा कि अब तक 21.21 लाख मरीज़ इन आम आदमी क्लीनिकों का लाभ ले चुके हैं और कुछ ही महीनों में लाखों ही और मरीज़ मुफ़्त में अपने टैस्ट करवा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब के किसानों को बड़ी राहत देने के लिए फ़सल के नुकसान का मुआवज़ा राज्य सरकार ने 25 प्रतिशत बढ़ाने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि जिन किसानों की 75 प्रतिशत से अधिक फ़सल ख़राब हुई है, उनको राज्य सरकार 15 हज़ार रुपए प्रति एकड़ मुआवज़ा देगी। भगवंत मान ने कहा कि इसका उद्देश्य किसी भी कीमत पर किसानों की भलाई यकीनी बनाना है। उन्होंने कहा कि इसलिए राज्य भर में विशेष गिरदावरी चल रही है और वैसाखी से पहले मुआवज़ा बांटा जायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इस मुश्किल की घड़ी में पूरी तरह अन्नदाता के साथ खड़ी है। उन्होंने आगे कहा कि एक अन्य बड़ी किसान हितैषी पहलकदमी में राज्य सरकार ने प्राइमरी कृषि सहकारी सोसायटियों के कर्ज़े की फिर अदायगी रोकने का फ़ैसला किया है। भगवंत मान ने कहा कि सरकार किसानों के हुए नुकसान की पूर्ति करने के लिए वचनबद्ध है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों को मानक शिक्षा देने के लिए राज्य के 23 जिलों में 117 ‘स्कूल आफ एमिनेंस’ स्थापित किये गए हैं। भगवंत मान ने कहा कि यह स्कूल विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग, लॉ, कामर्स, यू. पी. एस. सी. और एन. डी. ए जैसे पेशेवर और मुकाबले वाले कोर्सों के लिए तैयार करेंगे। उन्होंने कहा कि यह स्कूल युवाओं को विश्व स्तर पर अन्य मुल्कों के युवाओं के साथ मुकाबला करने के योग बनाऐंगे। अपने संबोधन में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि योगशाला का यह तजुर्बे राष्ट्रीय राजधानी में किया गया। उन्होंने कहा कि आम आदमी ने इन तजुर्बों को काफ़ी बड़ा समर्थन दिया। अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार की जन हितैषी पहलकदमियों को पंजाब के अन्य कई हिस्सों में भी लागू किया जायेगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि मूलभूत पड़ाव में पटियाला, फगवाड़ा, अमृतसर और लुधियाना जैसे चार शहरों में योगशाला शुरू की जा रही हैं और इनको राज्य के अन्य हिस्सों तक बढ़ाया जायेगा। उन्होंने कहा कि इस मुहिम के अंतर्गत प्रशिक्षित योग इंस्ट्रक्टर लोगों को मुफ़्त में योग आसन सिखाएँगे। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के उप राज्यपाल की तरफ से इनको रोक देने तक दिल्ली के 17 हज़ार व्यक्ति मुफ़्त में योग का प्रशिक्षण ले चुके थे। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि योग बीमारियों को दूर भगा कर पंजाबियों को सेहतमंद बनाऐगा। उन्होंने शिक्षा, सेहत एवं कानून-व्यवस्था के क्षेत्र में से कई मिसाली पहलकदमियों के लिए भगवंत मान की सराहना की। केजरीवाल ने कहा कि राज्य सरकार की अथक कोशिशों से पिछली सरकारों के संरक्षण प्राप्त ज़्यादातर गैंगस्टर आज सलाखों के पीछे हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की पुरज़ोर कोशिशों से बेअदबी के मामलों में इंसाफ़ यकीनी बनेगा। उन्होंने कहा कि नशों से राज्य की पीढ़ियों को तबाह करने वाले राजनीतिज्ञों, नौकरशाहों और नशा तस्करों का गठजोड़ जल्द सलाखों के पीछे होगा। केजरीवाल ने देश के अन्य हिस्सों में विद्रोह के बावजूद पंजाब में कानून-व्यवस्था बरकरार रखने के लिए राज्य सरकार की तारीफ़ की। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने फसलों के नुकसान के मुआवज़े में 25 प्रतिशत वृद्धि के साथ किसानों के ज़ख्मों पर मरहम लगाने के लिए भी राज्य सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि भगवंत मान पंजाब और पंजाबियों के असली हितैषी हैं क्योंकि वह समाज के हर वर्ग की भलाई के साथ सरोकार रखते हैं। केजरीवाल ने राज्य के सामाजिक- आर्थिक विकास में युवाओं को सक्रिय सहयोगी बनाने के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री की तरफ से उठाये गये कदमों की भी सराहना की। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री डॉ. बलबीर सिंह ने सभी मेहमानों का समागम में पहुँचने के लिए धन्यवाद किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *