April 19, 2024

रंगला पंजाब बनाने के लिए कृषि का ख़ुशहाल होना बहुत ज़रूरी : कुलदीप सिंह धालीवाल  

1 min read

कृषि मंत्री द्वारा ‘किसान मित्रों’ के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिये पहली मीटिंग  

शिवालिक पत्रिका,
चंडीगढ़, पंजाब के कृषि मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिये किसान मित्रों को संबोधित किया। किसान मित्रों की नियुक्ति के बाद धालीवाल की यह पहली मीटिंग थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व में पंजाब सरकार राज्य को ‘रंगला पंजाब’ बनाने के भरपूर यत्न कर रही है और पंजाब को रंगला बनाने के लिए कृषि का ख़ुशहाल होना बहुत ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय कृषि को ख़ुशहाल बनाने के लिए इसमें वैकल्पिक फसलों के अधीन क्षेत्रफल बढ़ाना लाज़िमी हो गया है। उन्होंने किसान मित्रों को प्रेरित किया कि अधिक से अधिक किसानों को धान की बजाय फ़सली विभिन्नता वाली फसलों जैसे कि नरमा और बासमती उगाने के लिए उत्साहित किया जाये।   
धालीवाल ने कहा कि नरमे की फ़सल को ज़्यादा से ज़्यादा क्षेत्रफल में बीजने के लिए किसान मित्र अपना अहम रोल अदा करें। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक किसानों को गेहूँ-धान के चक्र में से निकालने के लिए फ़सली विभिन्नता की तरफ लेकर जाना किसान मित्रों की मुख्य ड्यूटी है। इस मौके पर भूजल के गहरे हो रहे स्तर पर भी कृषि मंत्री ने चिंता जतायी।   
धालीवाल ने कहा कि किसान मित्र धान की जगह नरमे और बासमती जैसी वैकल्पिक फसलें बीजने संबंधी सरकार की तरफ से लिए फ़ैसले अनुसार किसानों को लगातार जानकारी देकर शिक्षित करते रहें। उन्होंने किसान मित्रों को भरोसा दिया कि समय-समय पर नियमित प्रशिक्षण प्रोग्रामों और कैंपों का प्रबंध करने में कृषि विभाग के अधिकारी/कर्मचारी उनकी मदद करते रहेंगे। इससे पहले किसान मित्रों को उचित प्रशिक्षण भी दिया गया है जिससे किसानों को वैकल्पिक फसलें बीजने के लिए उत्साहित किया जा सके। उन्होंने कहा कि किसान मित्रों के साथ उच्च अधिकारी हर सोमवार मीटिंग किया करेंगे और इस मीटिंग में ब्लॉक स्तर के और ज़िला विकास कृषि अफ़सर भी उपस्थित रहेंगे।  कृषि मंत्री ने कहा कि किसान मित्र कृषि सामग्री जैसे कि कीटनाशकों, खादों आदि के प्रयोग के सम्बन्ध में सही फ़ैसले लेने में किसानों को जागरूक करें। इसके इलावा नरमा पट्टी में सठ्ठी मूँगी बीजने से रोकने के लिए भी किसानों को जागरूक किया जाये क्योंकि नरमे के आसपास खेतों में मूँगी बीजने से सफ़ेद मक्खी का विस्तार होता है। सफ़ेद मक्खी के हमले के कारण किसानों का नुकसान हो सकता है।  काबिलेगौर है कि किसान मित्रों की प्रगति रिपोर्ट जांचने के लिए एक एप बनाया गया है जिसमें किसान मित्र रोज़ाना का डाटा भरकर किये गए कामों की प्रगति देंगे। उनके काम की हर हफ्ते समीक्षा हुआ करेगी। यहाँ यह भी बताना बनता है कि पंजाब सरकार की तरफ से किसान मित्रों को 5000 रुपए मानभत्ता दिया जायेगा। धालीवाल ने यह भी ऐलान किया कि वह ख़ुद दौरा करके किसान मित्रों को निजी रूप में मिलेंगे और बढ़िया काम करने वाले किसान मित्रों की हौसला अफजायी भी की जायेगी। उन्होंने कहा कि हम सभी का फ़र्ज़ बनता है कि हम सब मिलकर पंजाब को ख़ुशहाल बनाने में अपना अहम योगदान डालें।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *