June 19, 2024

गुरू तेग़ बहादुर जी के प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री ने संग्रहालय किया लोगों को समर्पित  

1 min read

नौवें पातशाह के प्रकाश पर्व के अवसर पर उनके चरण स्पर्श प्राप्त गुरुद्वारा भौरा साहिब में हुए नतमस्तक  
राज घई , श्री आनन्दपुर साहिब,
पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने नवीनीकरण के बाद गुरू तेग़ बहादुर संग्रहालय लोगों को समर्पित किया और लोगों को नौवें पातशाह द्वारा दिखाए गए धर्म निरपेक्षता और मानवता की सेवा के ऊँचे एवं शुद्ध विचारों को अपने जीवन में अपनाने के लिए कहा।  यहाँ पँज प्यारा पार्क में चल रहे कार्य की समीक्षा करने के बाद में जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नौवें पातशाह द्वारा बसाया गया पवित्र शहर श्री आनन्दपुर साहिब सामाजिक समानता एवं धर्म निरपेक्षता का केंद्र है, क्योंकि नौवें पातशाह ने मानवीय अधिकारों की रक्षा के लिए अपने जीवन का बलिदान दिया। भगवंत मान ने लोगों से अपील की कि वह ‘हिंद की चादर’ श्री गुरु तेग़ बहादुर जी द्वारा दिखाए गए आत्म- बलिदान के रास्ते को जि़ंदगी में अपनाएँ। उन्होंने कहा कि नौवें पातशाह ने मानवता और धर्म निरपेक्षता के नैतिक-मूल्यों को बरकरार रखने के अलावा धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा के लिए बलिदान दिया। उन्होंने कहा कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब में दर्ज श्री गुरु तेग़ बहादुर जी की बाणी में सभी मनुष्य के एक ही ज्योति से उपजने, आपसी-भाईचारे, सत्य के मार्ग पर चलने, बहादुरी और दया का मार्ग दिखाया गया है, जिस पर सभी को चलने की ज़रूरत है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि मानवता के इतिहास में धर्म की रक्षा के लिए गुरू तेग़ बहादुर जी द्वारा दिया गया बलिदान अद्वितीय है और यह समूची मानवता के लिए एक मिसाल है। उन्होंने कहा कि यह संग्रहालय नौवें पातशाह को विनम्र सी श्रद्धाँजलि है, जिन्होंने धार्मिक स्वतंत्रता और सत्य के मार्ग पर चलने वाले नैतिक-मूल्यों को बरकरार रखने के लिए बेमिसाल बलिदान दिया। भगवंत मान ने कहा कि श्री गुरु तेग़ बहादुर जी का महान बलिदान हम सभी को याद रखना चाहिए और गुरू साहब की शिक्षाओं को दुनिया के कोने-कोने तक ज़रूर पहुंचाना चाहिए।  मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री गुरु तेग़ बहादुर जी का जीवन और दर्शन समूची मानवता के लिए मार्ग-दर्शक है और यह संग्रहालय जहाँ एक ओर इस गौरवमयी विरासत के बारे में लोगों को अवगत करवाएगा, वहीं दूसरी ओर लोगों के आपसी रिश्तों को मज़बूत करेगा। श्री आनन्दपुर साहिब के नींव पत्थर को भारतीय इतिहास की क्रांतिकारी घटना बताते हुए उन्होंने कहा कि नौवें पातशाह ने इसी पवित्र धरती पर सामाजिक समानता एवं धर्म निरपेक्षता की नींव रखी। उन्होंने कहा कि दसवें पातशाह श्री गुरु गोबिन्द सिंह ने इस पवित्र धरती पर ख़ालसा पंथ की नींव रखी, जो देश में जात-पात रहित धर्म निरपेक्ष समाज को कायम रखने के लिए मील पत्थर साबित हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बड़े गर्व की बात है कि यह संग्रहालय अति-आधुनिक तकनीक और ऑडियो-वीडियो प्रस्तुति से लैस होने के बाद लोगों को फिर समर्पित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इससे पहले संग्रहालय में गुरू साहिब के जीवन और शिक्षाओं के बारे में दीवारों पर लगी पेंटिंग के द्वारा ही दिखाया जाता था और ऑडियो-वीडियो प्रस्तुति और विशेष प्रकाश का कोई प्रबंध नहीं था। भगवंत मान ने कहा कि इस संग्रहालय के नवीनीकरण का काम पिछले एक साल के दौरान बहुत तेज़ गति से चला और इस पर तकरीबन 2 करोड़ रुपए की लागत आई है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरू साहिब द्वारा धर्म की रक्षा के लिए दिए बलिदान संबंधी विषय-वस्तु और शिक्षाओं को 2डी जैसी आधुनिक प्रौद्यौगिकी का प्रयोग के द्वारा एनिमेशन वीडियोज़, विशेष प्रकाश और मौखिक जानकारी के द्वारा दिखाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्धी एक मोबाइल एप्लीकेशन भी विकसित की गई है, जिसे अपने मोबाइल फ़ोन के द्वारा प्रयोग से कोई भी व्यक्ति यहाँ सारी जानकारी हासिल कर सकता है। भगवंत मान ने कहा कि यह नवीनीकृत अति-आधुनिक संग्रहालय, जो श्री गुरु तेग़ बहादुर जी के प्रकाश पर्व अवसर पर लोगों को समर्पित किया गया है, श्रद्धालुओं और अन्य आने वालों को ऐतिहासिक तथ्यों के बारे में अवगत करवाएगा और नौजवानों को विरासत में मिले बलिदान के जज़्बे से रूबरू करवाएगा।  धार्मिक शहरों के विकास को नजऱअन्दाज़ करने के लिए अकाली लीडरशिप की आलोचना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल चाहे हमेशा बड़ी-बड़ी शेखियाँ मारते हैं परन्तु उन्होंने इन शहरों के विकास के लिए कुछ भी व्यवहारिक कार्य नहीं किया। उन्होंने कहा कि अकाली लीडरशिप की इसी उदासीनता के कारण लोगों ने उनको बाहर का रास्ता दिखाया। भगवंत मान ने कहा कि बादलों ने राज्य और इसके लोगों की अपेक्षा अपने स्वार्थों को अहमीयत दी।  मुख्यमंत्री ने कहा कि रिवायती राजनीतिक पार्टियाँ उनसे ईष्र्या करती हैं, क्योंकि इन पार्टियों को साधारण घर के बेटे द्वारा समर्पित भावना से की जा रही सेवा बर्दाश्त नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि पंजाब निवासियों ने इन पार्टियों के पंजाब विरोधी और लोक विरोधी पैंतरों के कारण ही राज्य से इनका सफाया कर दिया है। भगवंत मान ने कहा कि यह पार्टियाँ और इनके नेताओं ने हमेशा अपने स्वार्थ ही पूरे किए हैं, जबकि लोगों ने राज्य की सेवा के लिए साधारण परिवारों के बच्चों को अवसर दिया है।  मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राज्य सरकार ने लोगों को मानक स्वास्थ्य सेवाएँ देने के लिए राज्य भर में 500 आम आदमी क्लीनिक समर्पित किए हैं। उन्होंने कहा कि यह क्लीनिक विश्व स्तरीय स्वास्थ्य सेवाएँ मुफ़्त मुहैया करवा रहे हैं और अब तक 21.21 लाख मरीज़ इलाज करवा चुके हैं। उन्होंने कहा कि लाखों मरीज़ों ने केवल कुछ महीनों में मुफ़्त टैस्ट करवाए हैं।  मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राज्य सरकार ने फसलों के हुए नुकसान की मुआवज़ा राशि में 25 प्रतिशत की वृद्धि कर किसानों को बड़ी राहत दी है। उन्होंने कहा कि फ़सल का 75 प्रतिशत से अधिक नुकसान होने की सूरत में किसानों को प्रति एकड़ 15000 रुपए का मुआवज़ा दिया जाएगा। भगवंत मान ने कहा कि इसका एकमात्र उद्देश्य किसानों के कल्याण को हर कीमत पर सुनिश्चित बनाना है। उन्होंने कहा कि राज्य में विशेष गिरदावरी चल रही है और बैसाखी से पहले मुआवज़ा बाँट दिया जाएगा।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने बच्चों को मानक शिक्षा देने के लिए 23 जि़लों में 117 स्कूल ऑफ एमिनेंस स्थापित किए हैं। भगवंत मान ने कहा कि यह स्कूल इंजीनियरिंग, लॉ, कॉमर्स, यू.पी.एस.सी. और एन.डी.ए. समेत पेशेवर और प्रतियोगी पाठ्यक्रमों की तैयारी करवाएंगे। उन्होंने कहा कि यह स्कूल विद्यार्थियों को राज्य से बाहर के हिस्सों में पढ़ रहे विद्यार्थियों से प्रतियोगिता करने के काबिल बनाएंगे।  मुख्यमंत्री ने एक और ऐलान करते हुए कहा कि कल बुधवार को समाना में एक और टोल प्लाज़ा बंद किया जाएगा, जिससे लोगों की लूट बंद की जा सके। उन्होंने कहा कि यह टोल प्लाज़े पिछली सरकार की मिलीभगत के कारण ग़ैर-कानूनी ढंग से लोगों की लूट करती आ रही हैं। भगवंत मान ने कहा कि जब आम आदमी सत्ता में है तो लोगों के पैसों की लूट बंद होकर रहेगी।  मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि पिछली सरकारों ने हमारी सरकार को पावरकॉम का 9020 करोड़ रुपए का ऋृण विरासत में दिया था और अब उनकी सरकार 1804 करोड़ रुपए की पाँच किस्तों में यह ऋृण वापस कर रही है। भगवंत मान ने कहा कि राज्य सरकार ने अब तक 28,000 से अधिक नौजवानों को सरकारी नौकरियाँ दी हैं।  मुख्यमंत्री ने गुरुद्वारा भौरा साहिब में माथा टेका और राज्य की अमन-शान्ति, तरक्की और ख़ुशहाली के लिए प्रार्थना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *