April 21, 2024

 हरियाणा सरकार सैनिकों व उनके परिवारों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध:राज्यपाल

1 min read

शिवालिक पत्रिका, चंडीगढ़ हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने आईटीबीपी भानू पंचकूला में तेईसवीं अखिल भारतीय पुलिस बैंड प्रतियोगिता का विधिवत शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजन से समस्त केन्द्रीय सशस्त्र बलों एवं राज्य पुलिस के बीच खेल प्रतिस्पर्धा के माध्यम से आपसी सामंजस्य एवं तालमेल को बढावा मिलेगा। इस अवसर पर अंबाला लोकसभा सांसद रतन लाल कटारिया तथा आईटीबीपी बीटीसी भानू के महानिरीक्षक ईश्वर सिंह दूहन भी उपस्थित थे। राज्यपाल ने कहा कि इस प्रकार के तालमेल से समस्त सुरक्षा बलों को कानून व्यवस्था व सुरक्षा संबंधी कर्तव्यों के निर्वहन में सहायता मिलती है। 23 वें अखिल भारतीय पुलिस बैंड प्रतियोगिता का आयोजन ऑल इंडिया पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड के मार्गदर्शन में 28 फरवरी से 4 मार्च तक किया जा रहा है, जिसमें राज्यों, केन्द्रीय शासित प्रदेशों और केन्द्रीय सशस्त्र बलों के 23 टीमों के लगभग 1500 बैंड प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं। इसके अलावा पांच महिला टीम भी इस प्रतियोगिता का हिस्सा होंगी। प्रतियोगिता के दौरान ब्रासबैण्ड, पाईपबैण्ड  और बिगुल तीन प्रकार के मुकाबले करवाए जाएंगे।राज्यपाल ने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ-साथ प्रत्येक व्यक्ति को आत्मिक संतुष्टि हेतु संगीत को भी पर्याप्त समय देना चाहिए। बैंड वादन से शरीर एवं मन स्वस्थ एवं ऊर्जा से परिपूर्ण रहते हैं तथा टीम में कार्य करने से सामाजिक भावना का विकास होता हैं जो कि आज के परिपेक्ष में अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि  अखिल भारतीय पुलिस बैंड प्रतियोगिता के विभिन्न प्रतिस्पर्धाओं में प्रतिभागियों को अपना कौशल प्रदर्शित करने का अवसर मिलेगा। इस प्रतियोगिता के दौरान सभी वादक अपने पूरे जोश एवं उत्साह से टीम भावना के साथ अपनी टीम को विजयी करवाने का प्रयास करेंगे। उन्होंने सभी प्रतिभागियों से अनुरोध किया कि वे सच्ची खेल भावना से प्रतियोगिता में भाग लें तथा अपनी-अपनी टीमों के लिए पदक जीतें। दत्तात्रेय ने कहा कि देश की आंतरिक और बाह्य सुरक्षा में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस का गौरवशाली इतिहास रहा है। जब-जब भी देश की सुरक्षा की बात आई है, तो आईटीबीपी के जवानों ने अपना बलिदान देकर देश की सीमाओं की रक्षा की है। देश की आंतरिक सुरक्षा के मामलों में तो भारत-तिब्बत सीमा पुलिस ने सदैव अग्रिम मोर्चे पर रहकर काम किया है। आईटीबीपी ने देश की सुरक्षा में जहां महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है वहीं खेल के क्षेत्र में भी अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में देश और अपने बल का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र के नेतृत्व में भारतीय सेनाओं और अर्धसैनिक बलों का मजबूतीकरण हुआ है। सभी सेनाओं के जवान आज किसी भी दुश्मन देश का मुकाबला करने के लिए हिम्मत और साहस से लबालब हैं। सभी सेनाओं और सैनिक बलों के पास आधुनिक हथियार और सामरिक सुविधाएं है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने आईटीबीपी के जवानों और उनके परिवारों के कल्याण के लिए सेंटर बनैवोलेंट फंड की स्थापना की है, जिसके तहत  विभिन्न ऑपरेशन कार्यों के दौरान वीरगति प्राप्त होने जवानों के परिवारों को 40 लाख रुपये की सहायता रिलीफ फंड के रूप में मुहैया करवाई जाती है। इसी तरह से आईटीबीपी के जवान व उनके परिवारों को आयुष्मान भारत योजना में शामिल किया गया है। इस योजना के तहत सभी परिवारों को मुफ्त ईलाज की सुविधा उपलब्ध है। राज्यपाल ने कहा कि हरियाणा सरकार भी सैनिकों व उनके परिवारों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है। वीरगति को प्राप्त होने वाले सैनिकों व अर्द्ध-सैनिकों के परिवारों को दी जाने वाली एक्स-ग्रेशिया ग्रांट 20 लाख रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये की गई है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि ऑल इण्डिया पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड एवं विभिन्न राज्यों की पुलिस व केन्द्रीय सशस्त्र बलों से आए हुए समस्त प्रतिभागी इस प्रतियोगिता द्वारा अपनी प्रतिभा एवं दक्षता में और अधिक वृद्धि करेंगे, ताकि इस प्रतियोगिता के माध्यम से नई प्रतिभाओं की खोज की जा सके जो राष्ट्र एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने बल एवं देश का प्रतिनिधित्व कर सकें। आईटीबीपी बीटीसी भानू के महानिरीक्षक ईश्वर सिंह दूहन ने अपने स्वागतीय भाषण में कहा कि तेईसवीं अखिल भारतीय पुलिस बैंड प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर बंडारू दत्तात्रेय की उपस्थिति से सभी प्रतिभागियों में एक नये जोश और उत्साह का संचार हुआ है। उन्होंने कहा कि यह हर्ष का विषय है कि ऑल इंडिया पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड द्वारा बीटीसी संस्था को एक वर्ष में दो प्रतियोगिताओं का आयोजन करने का अवसर प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि भारत भाषाओं व सांस्कृतिक भिन्नता के बावजूद एक राष्ट्र है और सभी पुलिस बल एक होकर इसकी एकता और अखण्डता को कायम रखने के लिए पूरी निष्ठा से कार्य कर रहे हैं। इससे पूर्व विभिन्न प्रदेशों और केन्द्रीय शासित प्रदेशों के सशस्त्र बलों की 23 टीमों के बैण्ड वादकों ने शानदार मार्चपास्ट प्रस्तुत किया। इसके अलावा आईटीबीपी के बाइकर्स ने हैरतंगेज करतब दिखाए, जिसे दर्शकों ने खूब सराहा। इस अवसर पर ऑल इंडिया पुलिस कंट्रोल बोर्ड के सहायक सचिव ब्रिगेडियर सुंदरम, कर्नाटका के पूर्व डीजीपी एस कृष्णामूर्थि, हरियाणा बीज विकास निगम के प्रबंध निदेशक जगदीप सिंह, अतिरिक्त उपायुक्त श्रीमती वर्षा खनगवाल, गेल की पूर्व निदेशक बंतो कटारिया सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *