July 14, 2024

क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में चिकित्सकों ने जटिल ऑपरेशन कर बचाई महिला की जान

शिवालिक पत्रिका, कुल्लू, जिला कुल्लू में व्यवस्था परिवर्तन का प्रभाव अब स्पष्ट दिखाने देने लगा है, जिसका लाभ यहां पर विभिन्न क्षेत्रों में सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं के रूप में लोगों को मिलना शुरू हो गया है। जिला क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू जिस पर कुल्लू सहित लाहौल स्पीति जिले के लोगों की स्वास्थ्य देखभाल का जिम्मा है, में प्रदेश में नई सरकार का गठन होते ही स्थानीय विधायक व सीपीएस सुंदर सिंह ठाकुर क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में चिकित्सकों व विशेषज्ञ चिकित्सकों के रिक्त पदों को भरने का बीड़ा उठाया।उन्हीं के प्रयासों से कुल्लू स्थित क्षेत्रीय अस्पताल में सरकार द्वारा रिक्त पड़े हुए सभी पदों को भरा गया है उससे लोगों को स्वास्थ्य सेवाओं में सभी प्रकार की सुविधाएं अस्पताल में ही मिल रही हैं। जिन सुविधाओं लिए कभी कुल्लू से बाहर शिमला या चंडीगढ़ जाना पड़ता था पर अब जिले के लोग यहां विभिन्न विभागों की विशेषज्ञ सुविधाओं का लोग लाभ ले रहे हैं साथ ही अल्ट्रासाउंड मशीन के पुनः आरम्भ होने से भी लोगों को निजी प्रयोगशाला में भारी फीस देकर टेस्ट करवाने से भी निजात मिली है, जो ब्यबस्था परिवर्तन का ही एक प्रतीक है। अब क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में चिकित्सकों द्वारा जटिल से जटिल ऑपरेशन भी यही किये जा रहे हैं। गत दिवस देर रात एक महिला को पेट दर्द और अर्धबेहोशी की हालत में क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू के इमरजेंसी वार्ड में लाया गया, वहां मौजूद डॉक्टर रितुपर्ण शर्मा ने चेकअप किया। टेस्ट के बाद पता चला कि वह महिला गर्भवती है तथा उसकी हालत बिगड़ती जा रही है। स्थिति की गम्भीरता को देखते अस्पताल मे तैनात डॉक्टर ने मुस्तैदी दिखाते हुए अल्ट्रासाउंड विशेषज्ञ पदम नेगी रेडियोलॉजिस्ट जिन्होंने हाल ही में यहां ज्वाइन किया है उन्होंने उस महिला का अल्ट्रासाउंड किया तथा रिपोर्ट में पाया कि महिला को इक्टोपिक प्रेगनेंसी रप्चर यानी ट्यूब में बच्चा ठहरा है और ट्यूब फटने के कारण पेट के अंदर काफी मात्रा में खून का रिसाव हो चुका है। तुरंत यह रिपोर्ट स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर ललिता बंसल को दी गई तथा एनेस्थीसिया की डॉक्टर ईशा को भी भेजी गई। बिना समय गवाएं पूरी टीम तैयार कर गई तथा ऑपरेशन थिएटर के स्टाफ को इमरजेंसी ऑपरेशन के लिए निर्देश दिए गए। करीब आधे घंटे में सारी टीम तैयार हो गई तथा ऑपरेशन करीब डेढ़ घंटे तक चला। इस प्रकार से अब इस ऑपरेशन को सफल कर मरीज की जान बचाई गई। इससे पूर्व इस तरह के जटिल केस रेफर कर दिए जाते थे परंतु अब इस प्रकार की स्वास्थ्य सुविधाओं से सभी लोगों को इसका लाभ मिल रहा है। कुछ ही दिन पहले मुख्य संसदीय सचिव सुंदर सिंह ठाकुर द्वारा मुफ्त दवाइयों की तीन दुकानों को अस्पताल के मुख्य द्वार पर स्थापित किया गया है, जिनमें से पहली दुकान मुफ्त दवाइयों की है जिसमें कि सभी आवश्यक दवाइयां जनता को मुफ्त उपलब्ध करवाई जाती हैं इसमें 402 आवश्यक दवाएं तथा 77 उपभोज्य वस्तुएं जैसे रुई इत्यादि मुफ़्त में उपलब्ध करवाई जा रही हैं। दूसरी दुकान जनऔषधि स्कीम के अंतर्गत सरकार द्वारा उपलब्ध की जाने वाली सस्ती व जेनेरिक दवाइयों की दुकान है तथा तीसरी दुकान नागरिक आपूर्ति के माध्यम से सब्सिडी पर उपलब्ध करवाने जाने वाली दवाइयों की है। सीपीस ने कहा कि इन तीनों दुकानों के मुख्य द्वार पर स्थापित होने से आम जनता को बड़ी सुविधा प्राप्त हो रही है क्योंकि कोई भी दवाई अगर एक दुकान में उपलब्ध नहीं होती है तो तीनों में से किसी एक दुकान पर अवश्य उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा की चिकित्सकों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वे भी मरीजों को जेनरिक दवाएं ही लिखें तथा दवाइयों की आवश्यक मात्रा का भंडार हमेशा उपलब्ध रखें। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं हैं उपलब्ध करवाने के ने तत्परता से कार्य कर रही है उन्होंने कहा कि वर्तमान में क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में चिकित्सकों का कोई भी पद रिक्त नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *